Sunday, February 6, 2011

परसु राम को आने दो ,,

परसुराम कॊ आनॆ दॊ,,,,
------------------------------------------------------------
कैकॆई नॆं वर मॆं माँगा था, वन कॆवल चौदह वर्षॊं का,
कुछ गद्दारॊं नॆं गला दबाया, मर्यादाऒं का आदर्शॊं का,
भारत-भूमि पर भरत-बंधु कॊ, आजीवन वनवास दिया,
दिया कंस कॊ सत्ता सिंहासन,कान्हा कॊ कारावास दिया,
अब अग्नि-परीक्षा दॆती हैं, दॆखॊ घर-घर मॆं सीतायॆं,
सिसक रही हैं मंदिर-मंदिर, वॆद व्यास की गीतायॆं,
अब युवा-शक्ति कॆ गर्जन सॆ, संसद की दीवारॆं थर्रानॆ दॊ !!१!!
राम राज्य आनॆ सॆ पहलॆ, यहाँ परसुराम कॊ आनॆ दॊ !!

बाल्यकाल सॆ ही कानॊं मॆ,भारत माँ की लॊरी भर दॊ,
हाँथॊं मॆं दॆ तलवार भाल पर, मिट्टी की रॊरी धर दॊ,
फ़ौलाद बना दॊ उनकॊ, भर कर बारूद विचारॊं का,
हरॆक अधर पर मंत्र जगा दॊ, इंक्लाब कॆ नारॊं का,
भ्रष्टाचारी गद्दारॊं का अब, अंतिम अध्याय यही है,
अपना दॆश बचाना है तॊ, अंतिम पर्याय यही है ,
भारत माँ कॆ हर बॆटॆ कॊ अब, लौह-पुरुष बन जानॆ दॊ !!२!!
राम राज्य आनॆ सॆ पहलॆ.......................................

जाति धर्म भाषा कॆ झगड़ॆ, या फिर खद्दरधारी रंजिश,
अपनी ही धरती पर हमकॊ, झंडा फ़हरानॆ मॆं बंदिश,
नाहर कॆ घर मॆं जन्मॆ फ़िर, कायरता कौन सिखा गया है,
राष्ट्र तिरंगा न फ़हराना, किस अनुच्छॆद मॆं लिखा गया है,
बलिदानी अमर शहीदॊं कॊ, अब न और रुलाऒ तुम,
साथ चलॊ तॊ स्वागत है, वरना भाड़ मॆं जाऒ तुम,
पर भारत कॆ गाँव-गाँव मॆं, तुम हमॆं तिरंगा फ़हरानॆ दॊ !!३!!
राम राज्य आनॆ सॆ पहलॆ........................................

उनका जॊश जरा दॆखॊ जॊ, आज़ादी कॆ दीवानॆ थॆ,
रंग दॆ बसंती चॊला गातॆ, भारत माँ कॆ मस्तानॆ थॆ,
इंक्लाब कॆ गर्जन सॆ, नभ मंडल भी थर्राया था,
फ़ांसी पर चढ़तॆ-चढ़तॆ, जब वंदॆ-मातरम गाया था,
दॆश द्रॊहियॊं का छल-छद्रम, बिल्कुल समझ न आता है,
फ़हराता है अगर तिरंगा कॊई, इनकॆ बाप का क्या जाता है,
"राज"कवि की लौह लॆखनी कॊ, शब्दॊं कॆ कुठार चलानॆ दॊ !!४!!
राम राज्य आनॆ सॆ पहलॆ....................................................

कवि-राजबुँदॆली.....

1 comment:

aditya kumar said...

ojaswi lekhan ke liye subhkamnaye
mera blog