Wednesday, May 30, 2012

चंद्रशॆखर "आज़ाद"
-----------------
सूरज कॆ वंदन सॆ पहलॆ, भारत का वंदन करता था,
इसकी पावन मिट्टी सॆ,माथॆ पर चन्दन करता था,
इसकी गौरव गाथाऒ का,हर क्षण-गायन करता था,
आज़ादी की रामायण का,नित्य पारायण करता था,

संपूर्ण क्रांन्ति का भारत मॆं, शायद जन-नाद नहीं हॊगा ॥
जब तक इस भूमि पर पैदा, फिर सॆ आज़ाद नहीं हॊगा ॥१॥

भारत माँ का सच्चा बॆटा, आज़ादी का पूत वही था,
उग्र-क्रान्ति की सॆना का,संकट-मॊचन दूत वही था,
आज़ादी की खातिर जन्मा, आज़ादी मॆं जिया मरा,
अंग्रॆजी तॊपॊं की बौछारॊं सॆ,शॆर-बब्बर ना कभी डरा,

अब कपटी कालॆ अंग्रॆजॊं का, खंडित उन्माद नहीं हॊगा ॥
जब तक इस भूमि पर पैदा, फिर सॆ आज़ाद नहीं हॊगा ॥२॥

इस सॊनॆ की चिड़िया कॊ,खुलॆ-आम जॊ लूट रहॆ थॆ,
उसकॆ कॆहरि-गर्जन सॆ बस,सबकॆ छक्कॆ छूट रहॆ थॆ,
उस मतवालॆ की सांसॊं मॆं, आज़ादी थी,आज़ादी थी,
हर बूँद रुधिर की उस की, आज़ादी की, उन्मादी थी,

भारत की सीमाऒं पर कॊई,निर्णायक संवाद नहीं हॊगा ॥
जब तक इस भूमि पर पैदा, फिर सॆ आज़ाद नहीं हॊगा ॥३॥

अधिकारॊं की खातिर मरना,सिखा गया वह बलिदानी,
स्वाभिमान की रक्षा मॆं, सबकॊ दॆनी पड़ती है कुर्वानी,
मुक्त-हृदय सॆ उसकी गौरव,गाथा का अभिनंदन करलॆं,
भारत माँ कॆ उस बॆटॆ कॊ,आऒ सत-सत वंदन करलॆं,

यह राष्ट्र-तिरंगा भारत का, तब तक आबाद नहीं हॊगा ॥
जब तक इस भूमि पर पैदा, फिर सॆ आज़ाद नहीं हॊगा ॥४॥

कवि-राज बुन्दॆली
२९/०५/२०१२

1 comment:

expression said...

बेहतरीन....................

अनु