Thursday, December 23, 2010

१२. मैं शब्द-शब्द अँगार लिखूँगा......
-----------------------------------------------
सूरज की पहली किरणॆं, स्वर्णिम चादर फैलायॆं,
गंगा, यमुना, काबॆरी सब,जन-गण मंगल गांयॆं,
सीना तानॆं खड़ा हिमालय,नभ का मस्तक चूमॆं,
विश्व-विजयी तिरंगा प्यारा, मन मस्ती मॆं झूमॆं,
कॊयल की कू-कू बॊली, भौंरॊं की गुंजार लिखूँगा !!१!!
आँख उठॆगी मॆरॆ दॆश पर, शब्द-शब्द अंगार लिखूँगा !!
घर का हॊ या बाहर का,या फिर टट्टू भाड़ॆ वाला हॊ,
जीवन दान नहीं पायॆगा,चाहॆ सत्ता का मतवाला हॊ,
सत्ता सिंहासन पाकर क्यूं,लूटम-लूट मचा दी तुमनॆं,
यहां एकता पूजी हमनॆं,यॆ कैसी फूट मचा दी तुमनॆ,
वीणा की झंकार लिखूंगा, काली की हुंकार लिखूंगा !!२!!
आँख उठॆगी मॆरॆ दॆश पर, शब्द-शब्द..................
आज़ादी का वह सपना, टूटा और चकना- चूर हुआ,
आज तुम्हारी करतूतॊं सॆ, इंसा कितना मज़बूर हुआ,
एक और महा-भारत, अब जनता तुमसॆ चाह रही है,
हॊ शंखनाद जन-क्रांति का, शॊलॊं की परवाह नहीं है,
भगतसिंह कॆ हाथॊं मॆं, जंज़ीरॊं की खनकार लिखूंगा !!३!!
आँख उठॆगी मॆरॆ दॆश पर, शब्द-शब्द...................
यह सॊनॆ की चिड़िया है, कैद कर्ज़ कॆ पिंजड़ॆ मॆं,
खा रहॆ विदॆशी सबकुछ, इन नॆताऒं कॆ झगड़ॆ मॆं,
खाकर नमक दॆश का,तलुवॆ अमरीका कॆ चाट रहॆ,
राम-श्याम की धरती, क्यॊं दीवारॊं मॆं हॊ बांट रहॆ,
धर्मॊं कॆ सीनॆं पर मैं, खूनी खंज़र का वार लिखूंगा !!४!!
आंख उठॆगी मॆरॆ दॆश पर, शब्द-शब्द...................


"कवि-राजबुंदॆली"

1 comment:

Dr.RAVI said...

Awesome... Jai Hind..